Saturday, 10 November 2018

रूपमाला- क्रमांक- 9

1        : जो बहन यम राज की है,नाम यमुना जान
         वह लगाती तिलक मस्तक,होय आयुष्मान ।
            पावन प्यार है बहन का,यम करे गुणगान
    भाल तिलक निहार के यम ,दे अभय का दान ।
        🌹

  
2        छुप गया है चाँद देखो,ओढ़ काली रात
        ढूंढते सब दीप ले कर,है बनी फिर बात ।
           दीप की बारात निकली,रौशनी सौगात
      घेर कर जो तम खड़ा था,खा रहा अब मात ।
    

3.    : मन बना पागल भटकता ,देख लो सब ओर
        था जिसे तू खोजता तब ,मौन वह चित चोर ।
           है बसा वह हर जगह ही,बस उसे पहचान
           खोज ले भीतर वही है,अब उसे तू   जान

4          चाँद था प्यारा खिलौना,देता खुशी भरपूर
                देख उसको खेलती मैं,पर रहे वह दूर ।
                है वही मामा सभी का,बात यह मशहूर
             चाँदनी बांटे सभी को, जो उसी का नूर ।

Tuesday, 6 November 2018

रूपमाला - - क्रमांक - 8


1      दीप झिलमिल जल रहा है, मन मिलन की चाह
                   है तिमिर को चीरता ये, ढूंढ लेता राह ।
                   और है बाधा कहाँ पर, ले रहा है थाह
           जीतने की जिद लिए  है ,  लगन ऐसी वाह ।
   

 
2           रात भर जलता रहा है ,गढ़ रहा नव रीत
         भेदता तम यह अकेला, हो नहीं भय भीत ।
           मौन रह के कर्म रत यह , है अनोखी प्रीत
            सूर्य तो है इष्ट इसका ,भक्ति की है जीत ।

3        नेह का इक दीप रख दे,आज मन के द्वार
          जगमगाता दीप से मन,कर सुधा बौछार।
          जाल फैला है तिमिर का,अब न चूके वार
       जुगनुओं की फौज भी तो ,खूब करती मार ।

4           आंधियों से डरना नहीं,खो नहीं तू धीर
           जो करे हिम्मत सदा ही,है वही तो वीर।
           रात काली भी ढलेगी , फिर सुहानी भोर
           दीप छोटा हो मगर वह, मेटता तम घोर।

5          हर गली में है उजाला, ज्योति का त्यौहार
           एक दूजे को मिल रहा,प्रीत का उपहार ।
            दीप सारे सज गये हैं, देख लो चहुँ ऒर
             जगमगाती रोशनी ज्यों,दीप लाये भोर ।

  

Sunday, 21 October 2018

रूप - माला क्रमांक -7

1            उड़ गए हैं डाल से खग,जा बसे परदेश
           लौट कर आए नहीं फिर, कौन दे सन्देश ।
           रोज ही बन के विहग ये, हो रहे आजाद
            नीड़ के तिनके बसाये,हैं कणों में याद ।

2             आपका चिंतन बनाता,आपकी पहचान
             सोच को देती दिशा है,दे पुलक यह जान ।
         देख सुन के गुन इसी पर  , हो सभी का ध्यान
              ये  सभी अभ्यास मन के,जो  बटोरे ज्ञान ।

3:.        रोज ही अभ्यास करती ,रश्मियों की फौज ।
              है यही चिंता वनों की ,अब न होती मौज ।
                  लौट आओ मेघ प्यारे, नीर बिन बेचैन
                   नीर ही तो तृप्ति  देवें,है इन्हीं से चैन।

4.              कीमती रिश्ते बहुत हैं,ये गले का हार
           मन अगर निर्मल तभी तो ,जोड़ रखते तार ।
                लोग तो हैं हर तरह के,ये करें स्वीकार
         .    चार दिन की जिंदगी में ,प्रेम  ही है सार ।

5            देख सूरज जेठ का अब,कर रहा बेहाल
          बादलों के रहम पर हम , सब रहें खुश हाल ।
                   रूठते रहें मेघ काले,भूमि पड़ी दरार
             मिलकर चलो हम मनाएं, है तृषित संसार ।
        

 

           

Saturday, 20 October 2018

रूप माला - क्रमांक -6

       
     
1           चांदनी  मोती लुटाती,है मुदित हर दूब
                   धरा का हृदय है,आनंद से खूब।
              दे विदाई रात  रानी,खिल उठी है गंध
         चाहते मन से सभी यह, हो अमर संबंध

 2       चाँद निकला सैर पर जब, चांदनी के साथ
               हैं चकित तारे सभी तो,हाथ में है हाथ।
            यामिनी स्वागत करे है  , आ गया आनंद
              यह धरा मोहित हुई है,रच रही है छंद ।

      

  3         देख सूरज जेठ का अब,कर रहा बेहाल
       बादलों के रहम पर हम , सब रहें खुश हाल ।
                 राह भूले मेघ अब तो,खूब हाहाकार
            हाथ जोड़े हम पुकारें, हे जगत आधार ।

  4             जो हरे रहते सदा ही ,सूखते वे दूब
           भूमि के परिधान है जो , हैं कलपते खूब।
                सूख के तिनके हुए हैं,हो गये हैं पीत
       हो गया अब लुप्त उनके , हृदय का संगीत ।

5        रात भर जलता रहा है ,गढ़ रहा नव रीत
       भेदता तम यह अकेला, हो नहीं भय भीत ।
         मौन समर्पण करता यह , है अनोखी प्रीत
         सूर्य तो है इष्ट इसका ,भक्ति की है जीत ।


  

Thursday, 18 October 2018

रूप माला -- क्रमांक 5

1           बाग में इस जगत के हैं,कुछ महकते फूल
                 वो सदा संसार के ही,हैं खुशी के मूल ।
               वेग से चलती हवा के ,साथ उड़ती धूल
          जिंदगी का सच यही है , दें न उसको तूल ।

2                  है बढ़ाता दूरियां धन,टूटता विश्वास
                भाइयों में फूट डाले ,तोड़ता है आस ।
          है भरे मन मेंअहम को,जो कुमति का दास
    हो सुमति का संग तब तो ,व्यक्ति बनता खास ।

  3  :      उड़ गए हैं डाल से खग,जा बसे परदेश
          लौट कर आए कहीं फिर,कौन दे सन्देश ।
            रोज ही बन के विहग ये, हो रहे आजाद
              नीड़ के तिनके बसाये,हैं कणों में याद ।    

4            भूल अपनी झूठ से सब,ढाँपते हैं लोग 
            हैं कमी अपनी छुपाते,ये सभी का रोग ।
          मान लें जो भूल अपनी,मगन अपने काम
             रहते सदा खुश यही ,देख सुबहो शाम ।

5          रास्ता  सुख चैन का यह, है बड़ा आसान
            काम से अपने रख काम,तू बचा सम्मान।
            प्यार या उपकार मां का,है चुकाया कौन
           सामने मां-बाप-गुरु के,रख सदा तू मौन ।

Tuesday, 16 October 2018

रूपमाला- क्रमांक 4

        
  1         :बाग में इस जगत के हैं,कुछ महकते फूल
                वो सदा संसार के ही,हैं खुशी के मूल ।
               वेग से चलती हवा के ,साथ उड़ते धूल
           जिंदगी का सच यही है , दें न उसको तूल ।

  2             है बढ़ाता दूरियां धन,टूटता विश्वास
                भाइयों में फूट डाले ,तोड़ता है आस
         है भरे मन मेंअहम को,जो कुमति का दास
    हो सुमति का संग तब तो ,व्यक्ति बनता खास ।
                            

3    :    है मन अतिअदभुतअसीम,जोशक्तिआगार                         है वही भटके मगर तो,घूमता बेकार।
                   भूल जाता है वही तो,ईश का उपकार
                 है भरी क्षमता उसी में,पा सके ना पार ।

4          हम अकिंचनआप आये ,आज पहली बार,
               हो गए हैं धन्य हम तो, है खुशियां अपार ।
            है कृपा की चाह हमको,आप गुण आगार
             हम करें श्रद्धा समर्पित,हृदय से आभार ।

  5          जा रही ये रात देखो,आ रही है प्रात
         हैं पहन चूनर किरण की,झूम जाते  पात ।
      नाचते पुलकित कमल दल, ओस भीगे गात
      सूर्य को करके नमन दिन की , कर रहे शुरुआत।

6        धीर मन पग हम बढ़ाएँ,ले चलो जी साथ
               बढ़ चलें हैं नापने जग, हाथ में ले हाथ ।
          कर्म पथ हो सुगम सबका, दीन के तुम नाथ
                है तुम्हारा ही सहारा, हो चरण में माथ ।

Monday, 15 October 2018

रूपमाला - क्रमांक- 3

1          : प्रेम तो भारी पड़ा है,एक क्या सौ बार
         कारगर है प्रेम भी तो, खूब करता  वार ।
               आदमी मृत प्राय होता,प्रेम फूँके प्राण
         प्रेम की है ताकत बड़ी , खोज लो न प्रमाण ।

2        : धीर मन पग हम बढ़ाएँ,ले चलो जी साथ
               बढ़ चलें हैं नापने जग,ले हाथ में हाथ ।
         कर्म पथ हो सुगम है प्रभु,दीनन के तुम नाथ
                   है तुम्हारा ही सहारा,चरण तेरे माथ ।
   
          बोल  हों सबके मधुर तो, हो सही आचार
           लोग मर्यादा रखें तब ,होउचित व्यवहार।
         हों सहज रिश्ते सभी के, सुखी हो परिवार
         लोग हों आनंद में सब  ,प्यार हो आधार ।

4.              है बढ़ाता दूरियां धन,टूटता विश्वास
               भाइयों में फूट डाले ,तोड़ता है आस।
        मन भरे घमंड यही तो,जो कुमति का दास
  हो सुमति का संग तब तो , व्यक्ति बनता ख़ास ।

5              मान देता तभी जग,हो मनुज गुणवान
              जीत लेता है दिल गुणी ,हारता धनवान।
              हो अगर संगत बुरी तो,यह गले की फांस
             जान लो निश्चित बुरे दिन,आ गये हैं पास।